मूक बधिर एवं मानसिक रुप से मंद बच्चों हेतु बरेका महिला कल्याण संगठन द्वारा संचालित चेतना विद्यालय का 25वॉं रजत जयंती समारोह बड़ी धूम-धाम से मनाया गया

Uttam Savera News
4 Min Read

वाराणसी। सामाजिक एवं कल्याणकारी कार्यों में अग्रणी बनारस रेल इंजन कारखाना महिला कल्याण संगठन द्वारा परिसर में संचालित मंदबुद्धि एवं दिव्यांग बच्चों के व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्र ‘चेतना’ का 25वां रजत जयंती वार्षिकोत्सव आज दिनांक 09 दिसम्बकर, 2022 को बच्चों द्वारा प्रस्तुत आकर्षक रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम बड़े ही धमू-धाम से विद्यालय परिसर में मनाया गया। विद्यालय का शुभारम्भ 10 अक्टूबर 1996 को किया गया था, जिसमें बरेका एवं उनके आस-पास के बच्चें अध्य्यनरत हैं। इन छात्रों को व्यावसायिक प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाने का प्रयत्न् किया जाता है। इसी प्रशिक्षण के क्रम में इन्हें् मोमबत्ती‍, मसाले, पेपर बैग, हर्बल गुलाल, हर्बल साबुन, पोटली बनाना, टाई एण्ड डाई, सिलाई इत्याेदि का प्रशिक्षण दिया जाता है।

रजत जयंती कार्यक्रम का शुभारम्भ बरेका की महाप्रबंधक सुश्री अंजली गोयल द्वारा दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ। इस अवसर उनके द्वारा सुझाव दिया गया है कि बरेका स्थित अधिकारी अतिथि गृह में चेतना विद्यालय के छात्रों द्वारा बनाये गये सामान जैसे- ब्रस, टूथपेस्टत पाउच, कोस्टृर, लिफाफा, बैग आदि का उपयोग किया जाए।

जिससे विद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को आत्म,निर्भर बनाने में सहयोग प्राप्ता होगा। साथ ही इन सामानों का एक स्टा ल वहाँ लगाया जाये जिससे वहाँ आये हुए सदस्यों को यदि किसी सामान की जरुरत हो तो उसे वहाँ से प्राप्त कर सकें। महाप्रबंधक द्वारा इस अवसर पर अपनी तरफ से चेतना में पढ़ने वाले छात्र/छात्राओं के शिक्षा हेतु 1 लाख रूपये की धनराशि प्रदान की गई।

महाप्रबंधक ने अपने उद्बोधन में शिक्षकों के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि बरेका महिला कल्याण संगठन द्वारा संचालित चेतना विद्यालय दिव्यांग बच्चों के स्वाबलंबन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य कर रहा है, जिसकी जितनी सराहना की जाए कम है। यहां के शिक्षकों द्वारा बरेका एवं आस-पास के बच्चों के पठन-पाठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। बरेका महिला कल्याण संगठन का ब्रांड बनारस बनाने का प्रयास माननीय प्रधानमंत्री जी के लोकल फॉर वोकल को समर्पित है। सभी शिक्षकों ने निष्ठापूर्वक अपने प्रयास द्वारा बच्चों में न केवल शिक्षा, बल्कि उनका चातुर्थिक विकास कर उन्हें स्वावलंबी बनाने में अपनी महरती भूमिका निभा रही है।

महाप्रबंधक ने बरेका महिला कल्याण संगठन द्वारा संचालित चेतना विद्यालय के शिक्षिकाओं से व्यक्तिगत रूप से मिलकर उनके अनुभवों को अपने साथ साझा किया। महाप्रबंधक स्वयं सभी से मिलकर उनके समर्पित सेवाओं के लिए बधाई दी। उन्होंचने कहा कि किसी भी व्यक्ति का प्रथम विद्यालय उसका अपना घर तथा प्रथम शिक्षक मॉं होती है। प्रत्येक व्यक्ति को अपना कार्य स्वयं करना चाहिए और अपने किए गए कार्यों पर विश्वास करना चाहिए । चेतना विद्यालय में विशेष छात्रों से मिलकर उन्होंने कहा कि आपके द्वारा किए गए हुनरमंद कार्य मुझे हर पल कुछ ना कुछ करने को प्रेरित करते हैं।

कार्यक्रम में छात्रों द्वारा नृत्यॉ, स्लो मोशन क्रिकेट, फैन्सीश ड्रेस, समूह नृत्य आदि अनेक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये, जिसकी वहॉं पर उपस्थित जन समूह द्वारा भूरी-भूरी प्रशंसा की गई। उपरोक्त कार्यक्रम का संचालन सचिव, महिला कल्याण संगठन श्रीमती प्रिया राज, एवं प्रधानाध्याापिका, चेतना विद्यालय श्रीमती राखी द्वारा किया गया। वार्षिक रिपोर्ट इंचार्ज चेतना विद्यालय श्रीमती श्रुति पाण्डेय द्वारा पढ़ी गई। कार्यक्रम के दौरान महिला कल्याण संगठन की उपाध्यक्षा श्रीमती गौरी श्रीवास्तंव, कोषाध्य्क्ष श्रीमती अनुलता वरिष्ठ उप महाप्रबंधक श्री विजय, जनसंपर्क अधिकारी श्री राजेश कुमार एवं अन्य पदाधिकारी एवं सदस्या्ऍं उपस्थित रहीं।

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × one =

Exit mobile version